Monday, March 11, 2013

Why do Muslims eat Halal - Unbelievable हलाल तरीक़े से ज़िबह करना जानवरों के लिए शांतिदायक क्यों ?

जब से इंसान ने जानवरों को पालना सीखा है। तबसे वह उनसे काम लेता आया है। वह उन्हें खूंटे से बांधता है, उनके नरों से अपने खेत में हल चलवाता है और उनकी मादाओं का दूध पीता है। वे अपने पालने वाले के सामने हठ करते हैं तो वह उन्हें डंडा मारकर सीधा कर देता है। 
मनुष्य को पशुओं पर यह अधिकार स्वयं परमेश्वर ने दिया है। इसीलिए प्राचीन धर्मग्रंथों में इसका वर्णन भी है। उन ग्रंथों में यह भी लिखा है मनुष्य अपनी ज़रूरत के लिए पेड़-पौधों और पशुओं को काट भी सकता है। पशुओं को काटने तक की विधि धर्म ग्रंथों में बताई गई है। बाद में जब बहुत से देवी देवताओं की पूजा का चलन शुरू हुआ तो इस विधि को भुला दिया गया।
हज़रत इबराहीम अलैहिस्-सलाम ने ऐसे ही माहौल में आंखें खोलीं। जिसमें सूरज, चाँद सितारों और मूर्तियों की पूजा की जा रही थी। वे इन सब बातों से संतुष्ट न थे। उन्होंने सच्चाई की खोज की और उसे पा लिया। ईश्वर ने उन्हें अपने धर्म का ज्ञान दिया। पशुओं को काटने की प्राचीन सही विधि का फिर से चलन शुरू हुआ। उनकी नस्ल में 70 से ज़्यादा पैग़म्बर पैदा हुए और सिददीक़ीन, शुहदा और सालिहीन के अज़ीम दर्जे को पाने वाले नेक आलिमों का तो शुमार ही मुमकिन नहीं है।
वे सब हलाल तरीक़े से ही जानवरों को ज़िबह करते थे। इसमें उस पैदा करने वाले मालिक का नाम लेकर उसकी महिमा बयान की जाती है। ज़िबह होने वाले जानवरों पर इसका चमत्कारिक असर पड़ता है। इससे उन्हें शाँति मिलती है। 
सैम कौउका (Sam Kouka) ने अल्लाह के नाम का यह चमत्कार स्वयं देखा और इस वीडियो के ज़रिये उसे आपके साथ शेयर भी किया है। देखिए- 

1 comment:

yusha khan kherki yusha said...

गोश्त खायें और हलाल से
परहेज़?
हर आदमी मुसलमानों को राक्षस
बताने पर तुला हुआ है क्योंकि वे
जानवरों को बेदर्दी से हलाल कर
डालते हैं। इसमें वो लोग भी आगे आगे हैं जिनकी हर शाम
किसी बढ़िया रेस्टोरेंट में रोस्टेड
या लज़ीज़ कोरमे का मज़ा लेते हुए
बीतती है। कुछ लोगों को माँस खाने में कोई
एतराज़ नहीं। उन्हें एतराज़ है
जानवरों के काटने के तरीके पर।
उनका कहना यह है कि अगर जानवर
को हलाल करने की बजाय झटके से
उसकी गर्दन अलग कर दी जाये तो उसे कोई दर्द नहीं होगा और वे
जानवर का माँस खाने के बाद
भी जीव पीड़ा के दोषी नहीं होंगे। लेकिन मौजूदा साइंटिफिक रिसर्च
कुछ और कहती है। यह रिसर्च हैनोवर
यूनिवर्सिटी, जर्मनी में 1974-1978
के बीच हुई, और रिसर्च करने वाले थे
प्रोफेसर विल्हेम शुल्ज़ और उनके
सहयोगी डा0 हाज़िम। इस रिसर्च में जानवरों के जिस्म पर इलेक्ट्रोड्स
लगाकर
उनकी इलेक्ट्रोइन् सेफ्लोग्राम
(EEG) और इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम
(ECG) लिया गया। फिर इन
जानवरों के दो ग्रुप बनाकर एक ग्रुप को हलाल तरीके
यानि धारदार औज़ार के ज़रिये
स्पाइनल कार्ड छोड़कर
बाकी ध्मानियां और शिराएं व नसें
तेज़ी से काटी गयीं जबकि दूसरे ग्रुप
के जानवरों में झटके से पूरी गर्दन अलग कर दी गयी। और फिर EEG और
ECG रीडिंग के द्वारा दर्द को और
कई दूसरी चीज़ों को मापा गया।
उसके बाद जो नतीजे आये वह
चौंकाने वाले थे। हलाल तरीके में
यानि इस्लामी तरीके में जानवर
को तीन सेकंड तक छुरी चलाने
का कोई दर्द महसूस नहीं हुआ और
तीन सेकंड बाद जानवर खून बह जाने
के कारण गहरे अवचेतन में पहुंच गया था और EEG शून्य रीडिंग दे
रही थी। यानि उसके मस्तिष्क में
दर्द तो क्या कोई एहसास
नहीं था। लेकिन स्पाइनल कॉर्ड के
रिफ्लेक्स रियेक्शन के कारण दिल
चालू था और वह जिस्म के खून को बाहर की तरफ उछाल रहा था।
इसी घटना को देखकर सामने वाले
को लगता है कि जानवर दर्द से तड़प
रहा है। जबकि वास्तविकता है
कि उसके मस्तिष्क में दर्द का कोई
एहसास नहीं होता। हाँ खून के निकलने से माँस में हानिकारक
जीवाणु पनपने
की संभावना समाप्त हो जाती है। जिन जानवरों की झटके से गर्दन
अलग की गयी थी उनमें यह
पाया गया कि EEG
की ऊंची रीडिंग अत्यधिक दर्द
को दर्शा रही थी। ऐसे जानवरों में
ब्रेन डेथ बाद में हुई जबकि दिल का चलना फौरन रुक गया। दिल के
रुकने से खून जिस्म से बाहर
नहीं निकलने पाया और इस कारण
ऐसे जानवरों के माँस में जीवाणु
ज्यादा पनपे। हलाल तरीके से काटे
गये जानवर का गोश्त ज्यादा दिन तक चला जबकि झटके वाले जानवर
का गोश्त जल्दी खराब हो गया। तो इस तरह सिद्व हुआ
कि जानवरों के काटने
का इस्लामी तरीका ज्यादा
मानवीय है। क्योंकि इससे
बिना जानवर को पीड़ा पहुंचाये
उसका स्वस्थ माँस हम हासिल कर सकते हैं। अब एक सामाजिक पहलू
चूंकि हलाल तरीके में काटने वाले
हाथ इंसान के होते हैं जबकि झटके के
तरीके से जानवर मशीनों के
द्वारा भी काटा जा सकता है, अत:
झटके में पशुवध् कहीं तेजी से होता है, और उसकी नस्ल खत्म होने
का खतरा पैदा हो जाता है। अब कुछ हदीसें
रसूल अल्लाह (स-) ने फरमाया,
‘‘अल्लाह हमपर दयालू है और हमें
भी दूसरों पर दयालू
देखना चाहता है। अत: अगर अपने
इस्तेमाल के लिये अगर जानवर को काटो तो छुरी को अच्छी तरह
तेज़ कर लो ताकि उसे दर्द न हो।’’
हज़रत अली अलैहिस्सलाम ने
फरमाया कि ‘‘अपने पेट
को जानवरों का कब्रिस्तान न
बनाओ।’’ यानि हद से ज्यादा गोश्तखोरी भी न करो।
हमें चीज़ें उतनी ही इस्तेमाल
करनी चाहिए जितने की ज़रूरत है।
इस्लाम हर चीज़ में बैंलेंस बनाने
की बात करता है। न
तो किसी बात में हद से ज्यादा ज्यादती होनी चाहिए, न
ही हद से ज्यादा कमी।